शारीरिक रूप से शक्रिय ना रहना है बच्चों में डिप्रेशन का कारण : स्टडी

0
225

वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि युवा बच्चे जो ज्यादातर समय बैठे रहते हैं उन्हें डिप्रेशन होने का रिस्क ज्यादा है।

स्टडी में देखा गया कि 12 साल की उम्र में ही अगर 60 मिनट हल्का-फुल्का एक्सरसाइज जैसे चलना आदि किया जाए तो 18 साल की उम्र में उन्हें डिप्रेशन होने की संभावना 10% कम होती है।

शारीरिक रूप से शक्रिय ना रहना है बच्चों में  डिप्रेशन का कारण
शारीरिक रूप से शक्रिय ना रहना है बच्चों में डिप्रेशन का कारण

यह भी देखा गया कि युवा बजे जो अपने दिन के ज्यादातर समय शारीरिक रूप से सक्रिय नहीं रहते उन्हें 18 साल की उम्र में डिप्रेशन होने की संभावना अधिक है।

उनका कहना है कि ऐसा कोई सा भी शारीरिक गतिविधियां जो बैठने के समय को कम करें, वह फायदेमंद है।

यह स्टडी करीब 4257 बच्चों पर किया गया। बच्चों को ट्रैक करने के लिए उनको एक्सेलेरोमीटर मीटर पहनाया गया था। इससे पता चलता है कि वह इस प्रकार की शारीरिक गतिविधि में भाग ले रहे हैं या नहीं।

डिप्रेशन के लक्षण जैसे खराब मूड, खुश ना रहना, ध्यान कम लगना आदि को जांच किया गया।

जिन बच्चों ने ज्यादा समय बैठे-बैठे बिताया उन्हें 18 साल कि उम्र में 28 प्रतिशत ज्यादा डिप्रेशन थे।

शोधकर्ताओं का कहना है कि बच्चों के लिए हल्का-फुल्का क्रियाकलाप ठीक है यह ज्यादा समय भी नहीं लेता और बच्चों के रूटीन में आसानी से जोड़ा जा सकता है।

Source | Image Source

यह भी पढ़ें : सोशल मीडिया से बच्चों में ईटिंग डिसऑर्डर

लाइक करें –

कमेंट करें –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here