स्वीडन में बिकता है नाले के पानी से बना शराब

0
40

खबर स्टॉकहोम , स्वीडन (Stockholm, Sweden) की जहाँ नाले के पानी को रीसायकल करके बियर बनाया जा रहा है और मार्किट में जिसकी मांग भी बहुत है। इसे आई वी एल स्वीडिश एनवायर्नमेंटल रिसर्च इंस्टिट्यूट (IVL Swedish Environmental Research Institute) ने फेमस शराब बेचने वाली कंपनियों के साथ मिलकर बनाया है।

स्वीडन में बिकता है नाले के पानी से बना शराब

कैसे बनता है नाले के पानी से शराब

इसे बनाने के लिए गंदे पानी को पहले माइक्रो मेम्ब्रेन से भेजा जाता है जिससे इसमें मिली आर्गेनिक मैटर और मइक्रोप्लास्टिक साफ़ हो सके। फिर रिवर्स ओसमोसिस (Reverse Osmosis) प्रक्रिया से गुजरा जाता है जिससे पानी में होने वाली केमिकल्स 100 % तक साफ़ हो जाते हैं। इसके अलावा एक्टिवेटिड कार्बन फ़िल्टर का उपयोग आर्गेनिक पदार्थ को निकलने के लिए किया जाता है। ज्यादा मात्रा में यह पानी में पाए जाने पर पानी ज़हरीला भी हो सकता है। और फिर आखिर में पानी को अल्ट्रावायलेट लाइट से पास किया जाया है जिससे बचे हुए कीटाणु नस्ट हो जाये हैं। फिर लैब टेस्ट के लिए भेजा जाता है जो की बाद में कंपनियों द्वारा शराब बनाने के उपयोग किया जाता है। इन सभी प्रक्रियों से होने के बाद पानी बिलकुल स्वच्छ होता है और फिर इसका स्वाद बिलकुल सामान्य पानी जैसे करने के लिए कुछ मिनरल्स बाद में मिलाये जाते हैं।

एक पिंट(1 पिंट 473 मिलीलीटर समान होता है ) शराब बनाने के लिए करीब 168 लीटर साफ़ पानी की जरुरत होती है

Embed from Getty Images

कौन कौन सी कंपनियां हैं शामिल

शराब को मई 25 को लांच किया गया था । रीसाइकल्ड वाटर बीयर बेचने वाली एक ब्रांड प्यो:रेस्ट (PU:REST) 6000 लीटर से ज्यादा शराब की बिक्री कर चूका है। इस शराब को बनाने का उद्देश्य ख़राब पानी को स्वच्छ पिने का पानी बनाना है। फेमस शराब बनाने वाली कंपनियां जैसे कार्ल्सबर्ग (Carlsberg )और न्यू कार्नेगी ब्रेवरी (New Carnegie Brewery )आपस में मिलकर शहर से निकलने वाली पानी से बियर बनाने की बात है जिससे लोगों के बीच रीसाइकल्ड ड्रिंकिंग वाटर (Recycled drinking water) का प्रचलन बाद सके।

इस तरह से बनने वाली शराब के बारे में बताते हुए एक प्रोजेक्ट मैनेजर ने कहा की रीसायकल की हुई पानी को पीने से मना करने वाले लोग बहुत है। लेकिन अगर देखा जाये तो ऐसे पानी से हमें कोई खतरा नहीं है बस जरुरत है हमें मानसिक रूप से दृढ़ होने की। लोगों में जब इस शराब की लोकप्रियता बढ़ने लगी तोह उन्हें सप्लाई बंद भी करना पड़ा। दो -तीन हफ़्तों बाद इसे फिर से उपलब्ध कराया गया।

जल संरक्षण की उत्तम पहल

पर्यावरण को देखते हुए इस तरह से शराब बनाने को एक अच्छा कदम कहा जा सकता है। लोगों के बीच इसके लोकप्रियता को देखते हुए यह भी साफ़ है लोग रीसाइकल्ड ड्रिंकिंग वाटर को अपनाने के लिए पूरी तरह से मानसिक रूप से तैयार है। लोगों को जल संरक्षण के लिए जागरूक करने का यह बहुत ही उत्तम उदहारण है।

यह भी पढ़ें : 24 साल में ले ली रिटायरमेंट , सिर्फ 6 साल काम करने के बाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here